Deprecated: Hook custom_css_loaded is deprecated since version jetpack-13.5! Use WordPress Custom CSS instead. Jetpack no longer supports Custom CSS. Read the WordPress.org documentation to learn how to apply custom styles to your site: https://wordpress.org/documentation/article/styles-overview/#applying-custom-css in /home/u761512908/domains/dktechhindi.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 6078
गूगल का DigiKavach : ऑनलाइन फ्रॉड से बचने के 10 टिप्स - DK Tech Hindi
News

गूगल का DigiKavach : ऑनलाइन फ्रॉड से बचने के 10 टिप्स

Rate this post

ऑनलाइन फ्रॉड के खतरे से बचाव के लिए गूगल ने एक नई पहल की शुरुआत की है, जिसे “डिजीकवच” (DigiKavach) कहा जाता है। यह एक साइबर सुरक्षा कैम्पेन है जो भारत में धोखाधड़ी से लोगों को बचाने का उद्देश्य रखता है। इस आर्टिकल में, हम इस नए सुरक्षा कवच के बारे में और धोखाधड़ी से बचाव के 10 जरुरी टिप्स के बारे में विस्तार से जानेंगे।

DigiKavach

“DigiKavach” क्या है और कैसे काम करता है।

गूगल का DigiKavach एक सुरुवात है जो भारत में धोखाधड़ी से लोगों को बचाने के लिए की गई है। इस कवच का उपयोग आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) और मशीन लर्निंग के साथ किया जाएगा, जो धोखाधड़ी करने वालों को पहचानने में मदद करेगा। यदि कोई धोखाधड़ी की आशंका होती है, तो इस कवच के सुइटेबल अलर्ट भी जारी करेगा।

दरसल आजकल के डिजिटल युग में, फाइनेंसियल सिक्योरिटी एक बड़ी चिंता बन चुकी है, क्योंकि ऑनलाइन बैंकिंग, डिजिटल लेन-देन, और फाइनेंस टेक्नोलॉजी (फिंटेक) की बढ़ोतरी के साथ ही, फाइनेंसियल फ्रॉड का खतरा भी बढ़ गया है। फ्रॉड लोगों ने नई अवसरों का शिकार बनाने के लिए इनोवेटिव तरीकों का इस्तेमाल शुरू कर दिया है।

भारत में इस बढ़ते हुए खतरे को देखते हुए, गूगल ने ‘DigiKavach’ नाम की एक नई पहल शुरू की है, जिसका मकसद फाइनेंसियल फ्रॉड के खतरों से लड़ना है। DigiKavach पहल खतरा पता लगाने और उभरते फाइनेंसियल फ्रॉड के पैटर्न का तोड़ निकालने के लिए डिज़ाइन किया गया है, ताकि लोगों और संस्थानों को फाइनेंसियल नुकसानों से बचाया जा सके।

DigiKavach पहल के उद्देश्य

डिजीकवच पहल का मुख्य उद्देश्य फाइनेंसियल धोखाधड़ी के खतरों से बचाना है। इसके लिए इस पहल में विशेष टीमें तैयार की गई हैं जो फ्रॉड लोगों द्वारा अपनाए जाने वाले प्लानिंग और तरीकों का तोड़ निकाल रही हैं। इन टीमों का मकसद फ्रॉड लोगों के पैटर्न को समझना है, ताकि उन्हें पहचानने और उनके प्रयासों को रोकने के लिए तैयार हो सकें।

धोखाधड़ी के पैटर्न के समझाने के बाद, डिजीकवच उभरते फाइनेंसियल फ्रॉड के खतरों की पहचान के लिए इनोवेटिव टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करता है। इन खतरों की पहचान को शुरू की स्टेज में करके, प्रोग्राम का उद्देश्य व्यक्त इसे उन्हें फाइनेंसियल नुक्सान से बचाने के उपायों का सुझाव देना है। इसके बाद, इन उपायों को अपनाने के लिए लोगों और संस्थानों को सहायता प्रदान करना है ताकि वे अपने फाइनेंसियल सिक्योरिटी को और भी मजबूत बना सकें।

ऑनलाइन फ्रॉड से बचने के 10 टिप्स

  1. ऑनलाइन सुरक्षा: आपके फाइनेंसियल सिक्योरिटी के लिए अपनी ऑनलाइन सुरक्षा को भी महत्वपूर्ण बनाना चाहिए. सुरक्षित पासवर्ड, सिक्योरिटी सॉफ़्टवेयर, और अन्य उपायों का इस्तेमाल करके आपको साइबर हमलों से बचाव करना चाहिए।
  2. साबधान रहें: ऑनलाइन लेन-देन करते समay, डेबिट या क्रेडिट कार्ड की जानकारी को किसी के साथ साझा न करें, चाहे वो ईमेल, सोशल मीडिया, या टेलीफ़ोन कॉल के जरिए हो।
  3. न्यायिक कार्रवाई: आपको अपने फाइनेंसियल सिक्योरिटी के लिए कभी-कभी न्यायिक कार्रवाई भी करनी पड़ सकती है. यदि आप कोई फाइनेंसियल फ्रॉड का शिकार होते हैं, तो आपको उनके खिलाफ कानूनी कदम उठाने के लिए तैयार रहना चाहिए।
  4. अपने पासवर्ड को मजबूत बनाएं: अपने ऑनलाइन खातों के पासवर्ड को मजबूत बनाना बहुत महत्वपूर्ण है। यह अल्फाबेट्स, न्यूमेरिक्स, और सिम्बोल्स का मिश्रण होना चाहिए, और उसका लंबाई कम से कम 12 अक्षरों की होनी चाहिए। कभी भी समान पासवर्ड का उपयोग न करें और नियमित समय पर उन्हें बदलते रहें।
  5. सुरक्षित वेब ब्राउजिंग: सुरक्षित ब्राउजिंग के लिए एक सिक्योर ब्राउज़र का उपयोग करें और उसे नियमित समय पर अपडेट करें। साइबर सुरक्षा के लिए एक अच्छा एंटीवायरस भी उपयोगी हो सकता है।
  6. वेबसाइट की जांच करें: जब आप ऑनलाइन लेन-देन करते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप सुरक्षित वेबसाइट्स का ही इस्तेमाल कर रहे हैं। एक सिक्योर वेबसाइट की पहचान “https://” और एक लॉक आइकन के साथ होती है।
  7. सक्रिय नेटवर्क सिक्योरिटी: अपने नेटवर्क को सिक्योर रखने के लिए एक फ़ायरवॉल और एंटीमैलवेयर का उपयोग करें। यह आपके डिवाइस्स को साइबर अटैक से बचाने में मदद कर सकते हैं।
  8. ध्यान से ईमेल पर क्लिक करें: अगर आपको किसी ईमेल में संदेश मिलता है और आपको उसकी जांच करने में शक है, तो उस पर क्लिक करने से पहले साबधानी बरतें। अकसर फिशिंग के दौरे में फर्जी लिंक्स होते हैं।
  9. सावधानी से जानकारी साझा करें: आपकी पर्सनल जानकारी को कभी भी अनजानों के साथ साझा नहीं करना चाहिए, विशेषकर जब यह आपकी फाइनेंसियल सिक्योरिटी को खतरे में डाल सकता है।
  10. डेबिट और क्रेडिट कार्डों का सुरक्षित उपयोग करें: ऑनलाइन शॉपिंग या वित्तीय लेन-देन करते समय, क्रेडिट और डेबिट कार्ड जानकारी को सुरक्षित रखें और सिर्फ ट्रस्टेड वेबसाइट्स पर लेन-देन करें।

यह सुझाव आपको अपनी फाइनेंसियल सिक्योरिटी को बढ़ावा देने में मदद कर सकते है। आपकी फाइनेंसियल सिक्योरिटी को सिक्योर करने के लिए ये सभी उपाय जरुरी हैं, और आपको अपनी फाइनेंसियल आज़ादी की ओर आगे बढ़ने में मदद कर सकते है।

तो आज हमने जाना की “DigiKavach” क्या है और कैसे काम करता है। ऐसे ही और पोस्ट पढ़ने के लिए जुड़े रहें हमारे साथ।

1. क्या DigiKavach मुफ्त है?

हां, DigiKavach मुफ्त है और यह भारतीय फाइनेंसियल सिक्योरिटी को बढ़ावा देने के लिए गूगल द्वारा प्रदान की जाती है। आप इसका इस्तेमाल करने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं और आपको किसी भी पेमेंट की चिंता नहीं करनी होगी।

2. DigiKavach का इस्तेमाल कैसे किया जाता है?

DigiKavach का इस्तेमाल करने के लिए, आपको इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा और वहां पर उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड के साथ साइन इन करना होगा। आपके खाते को सेटअप करने के बाद, यह आपके फाइनेंसियल लेन-देन की गतिविधियों को मॉनिटर करने लगेगा और संदेहजनक गतिविधियों की चेतावनियाँ प्रदान करेगा।

3. क्या DigiKavach केवल एक्सपर्ट यूज़र्स के लिए है?

नहीं, DigiKavach सभी वित्तीय यूज़र्स के लिए है, और इसका इस्तेमाल कोई भी कर सकता है, चाहे वह फाइनेंसियल एक्सपर्ट हो या एक सामान्य व्यक्ति। यह आपके वित्तीय सुरक्षा को मजबूत बनाने में मदद कर सकता है और आपको धोखाधड़ी के खतरों से बचाने में सहायक हो सकता है।

Leave a Reply